20+ नई पहेलियाँ उत्तर सहित | Hindi Paheliyan


यदि आप हिंदी पहेलियों के शौकीन हैं और नई मजेदार पहेलियों की तलाश में हैं, तो यहाँ आपके लिए हैं 20+ नई पहेलियाँ उत्तर सहित। इन पहेलियों को हल करके आप अपनी मनोदशक्ति को मजबूत कर सकते हैं और अपने दोस्तों को भी चुनौती दे सकते हैं। हर पहेली के साथ उत्तर भी दिए गए हैं ताकि आप अपनी जवाबदेही को सुनिश्चित कर सकें। तो आइए, इन मनोरंजक हिंदी पहेलियों का आनंद लें और अपनी बुद्धि को चुनौती दें!

 

1. बोल नहीं पाती हूँ मैं,

और सुन नहीं पाती |

बिना आँखों के हूँ अंधी,

पर सबको राह दिखाती |

उत्तर – पुस्तक

 

2. तीन अक्षर का मेरा नाम,

बीच कटे तो रिश्ते का नाम |

आखिरी कटे तो सब खाए, 

भारत के तीन तरफ दिखाए |

उत्तर – सागर

 

3. शुरू कटे तो कान कहलाऊँ,

बीच कटे तो मन बहलाऊँ |

परिवार की मैं करूँ सुरक्षा

बारिश, आँधी, धूप से रक्षा |

उत्तर – मकान

 

hindi paheliyan ad - 1

4. सोने की वह चीज है,

पर बेचे नहीं सुनार |

मोल तो ज्यादा है नहीं,

 बहुत है उसका भार |

उत्तर – चारपाई

 

5. नकल उतारे सुनकर वाणी,

चुप-चुप सुने सभी की कहानी |

नील गगन है इसको भाए,

चलना क्या उड़ना भी आए |

उत्तर – तोता

hindi paheliyan ad - 2

 

7. राजा महाराजाओं के ये,

कभी बहुत आया काम |

संदेश इसने पहुचाएँ,

सुबह हो या शाम |

उत्तर – कबूतर

 

8. आगे ‘प’ है मध्य में भी ‘प’,

 अंत में इसके ‘ह’ है |

पेड़ों पर रहता है,

सुर में कुछ कहता है |

उत्तर – पपीहा

 

9. देखी रात अनोखी वर्षा,

सारा खेत नहाया |

पानी तो पूरा शुद्ध था,

पर पी न कोई पाया |

उत्तर – ओस

 

 

 

10. करती नहीं यात्रा दो गज, 

फिर भी दिन भर चलती है |

रसवंती है, नाजुक भी,

लेकिन गुफा में रहती है |

उत्तर – जीभ

 

11. नहीं सुदर्शन चक्र मगर,

मैं चकरी जैसा चलता |

सिर के ऊपर उल्टा लटका.

फर्श पर नहीं उतरता |

उत्तर – पंखा

 

12. पास में उड़ता-उड़ता आए,

क्षण भर देखूँ , फिर छिप जाए |

बिना आग के जलता जाए,

सबके मन को वह लुभाए |

उत्तर – जुगनू

 

 

 

13. छिलके को दूर हटाते जाओ,

बड़े स्वाद से खाते जाओ |

इतना पर अवश्य देखना,

छिलके इसके दूर हीं फेंखना |

उत्तर – केला

 

14. आँखें दो हो जाए चार,

मेरे बिना कोट बेकार |

घुसा आँखों में मेरा धागा,

दर्जी के घर से मैं भागा |

उत्तर – बटन

 

15. मध्य कटे तो सास बन जाऊँ, 

अंत कटे तो सार समझाऊँ |

मैं हूँ पक्षी, रंग सफेद,

बताओ मेरे नाम का भेद |

उत्तर – सारस

 

 

 

16. सर्दी की रात मैं नभ से उतरूँ, 

 लोग कहते हैं मुझे मोती |

सूर्य का प्रकाश देखते हीं,

मैं गायब होती |

उत्तर – ओस

 

17. एक हाथ है लकड़ी की डंडी,

बने हुए हैं इसमें आठ घर |

ज्यों-ज्यों  हवा जाए उस भवन में,

त्यों-त्यों निकले हैं मीठे स्वर |

उत्तर – बाँसुरी

 

18. उड़ नहीं सकती मैं वायु में,

 चल नहीं पाती सड़कों पर | 

लेकिन लाखों पर्यटकों को,

पहुँचाती हूँ इधर-उधर |

उत्तर – रेल

 

 

 

19. बिन जिसके हो चक्का जाम |

पानी जैसी चीज है वह,

झट से बताओ उसका नाम |

उत्तर – पेट्रोल

 

20. मैं एक बीज हूँ,

तीन अक्षर है मेरे |

दो दल वाला अन्न हूँ,

दाल बनाकर खाते हो |

उत्तर – मटर

21. करती नहीं यात्रा दो गज़,
फिर भी दिन भर चलती है।

रसवंती है नाज़ुक भी है,
और गुफा में रहती है ?

उत्तर - ज़ुबान (जीभ)

 

22. वह कौन है

जिसके पास कभी तो दर्जनों कपड़े होते हैं

और कभी एक भी नहीं होता ?

उत्तर - वॉशिंग मशीन

 


23. वह क्या है जो ऊपर से फेंक देते हैं,
और अन्दर से पका लेते हैं,
और पकने के बाद अन्दर से फेंक देते है,
ऊपर से खा लेते हैं ?

उत्तर - भुट्टा

 


24. वह कौन सी चीज़ है
जो ज़िन्दा हो तो उसे दफना देते हैं
और मर जाये तो बाहर निकाल देते हैं ?

उत्तर - पौधा

 

25. ऐसी कौन सी चीज़ है
जिसे हम देख नहीं सकते
और ना ही चख सकते हैं
मगर खा सकते हैं ?

उत्तर - क़सम

 

26. ना ही मैं खाता हूँ
ना ही मैं पीता हूँ
फिर भी सबके घरों की
मैं रखवाली करता हूँ ?

उत्तर - ताला

 

27. जा जोड़े तो जापान, अमीरों के लिए है यह शान,
बनारसी है इसकी पहचान, दावतों में बढ़ती इसकी शान ?

उत्तर - पान

 

hindi paheliyan ad - 2

28. डिब्बा देखा एक निराला ना ढकना ना ताला,
ना पेंदा ना ही कोना है उसमे चाँदी सोना ?

उत्तर - अंडा

 

29. बचपन जवानी हरी भरी
बुढ़ापा हुआ लाल
हरी थी तब फूटी थी जवानी
लेकिन बुढ़ापे में मचाया धमाल ?

उत्तर - मिर्च

 

30. आपके ही घर पे आये तीन अक्षर का नाम बताए, 
शुरु के दो अति हो जाये, 
अंतिम दो से तिथि बन जाये। बताओ क्या?

उत्तर - अतिथि

 

31. सुबह, दोपहर, शाम को, 
मैं लोगों को भाती। सब्जी के संग मेल है, 
आदि कटे तो पाती।

उत्तर - चपाती

 

32. रंग-बिरंगी प्यारी-प्यारी दिखने में मैं सबसे न्यारी, 
छोटे हल्के पंख फैलाऊँ, 
बगिया में मैं रौनक लाऊँ।

उत्तर - तितली

 

33. गोल-गोल हैं जिसकी आंखें, 
भाता नहीं उजाला, 
दिन में सोता रहता हरदम, 
रात विचरने वाला..

उत्तर - उल्लू


34. हरा चोर लाल मकान, 
उसमे बैठा काला शैतान, 
गर्मी में वह है दिखता, 
सर्दी में गायब हो जाता! 
बताओ क्या?

उत्तर - तरबूज़

 

35. न मैं दिख सकती हूँ, 
न मैं बिक सकती हूँ, 
और न ही मैं गिर सकती हूँ. 
बताओ मैं कौन हूँ ?

उत्तर - हवा

 

hindi paheliyan ad - 1

36. छोटा सा है उसका पेट,
लेता सारा जगत समेट,
चार अक्षर का उसका नाम,
कहानी – कविता भी करता हमको भेंट।

उत्तर - अखबार

 

37. अगर प्यास लगे तो पी सकते हैं,
भूख लगे तो खा सकते हैं,
और अगर ठण्ड लगे तो,
उसे जला भी सकते हैं,
बोलो क्या है वो??

उत्तर - नारियल

 

38. आँखें होते हुए अंधी हूँ,
पैर होते हुए लंगड़ी हूँ,
मुख होते हुए मौन हूँ,
बताओ बताओ मैं कौन हूँ।

उत्तर - गुड़िया

 

39. ऐसी कौन सी चीज है,
जो पुरुषों में तो बढ़ती है,
लेकिन महिलाओं में नहीं बढ़ती!!
बताओ क्या??

उत्तर - दाढ़ी-मुछ

 

hindi paheliyan ad - 3

40. तीन अक्षर से लिखूँ अपना नाम,
उल्टा सीधा सभी एक समान..

उत्तर - चमच


41. मेरी पूंछ पर हरियाली, 
तन है मगर सफेद, 
खाने के हूँ काम आती, 
अब बोलो मेरा भेद।

उत्तर - मूली

 

42. तीन रंगों का सुंदर पक्षी, 
नील गगन में भरे उड़ान, 
सब की आंखों का है तारा, 
सब करते इसका सम्मान ।

उत्तर - भारत का राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा


43. एक थाल मोतियों भरा, 
सबके सिर पर उल्टा धरा, 
चारों ओर फिरे वो थाल, 
मोती उससे एक न गिरे ।

उत्तर - आकाश और तारे


44. हरी हरी मछली के हरे हरे अंडे। 
जल्दी से बूझो पहेली नहीं तो पड़ेंगे डंडे ।

उत्तर - मटर

 

45. ऊपर भी ले जाने वाली, 
नीचे भी ले जाने वाली . 
जीवन से मृत्यु तक ,
बस इसकी रहे यही कहानी।

उत्तर - साँसे

 

46. पूंछ कटे तो सीता. 
सिर कटे तो मित्र. 
मध्य कटे तो खोपड़ी. 
पहेली बड़ी विचित्र।

उत्तर - सियार

 

hindi paheliyan ad - 2

47. रंग बिरंगा बदन है इसका,
कुदरत का वरदान मिला,
इतनी सुंदरता पाकर भी,
दो अक्षर का नाम मिला,
ये वन में करता शोर,
इसके चर्चे हैं हर ओर। बताओ कौन?

उत्तर - मोर

 

48. एक फूल ऐसा खिला है, 
जिसकी अजब है कहानी। 
एक पत्ते के ऊपर दूसरा पत्ता, 
दुनिया है इसकी दीवानी।

उत्तर - पत्ता गोभी


49. काली है, लेकिन कोयला नहीं। 
लंबी है मगर डंडी नहीं, 
बांधी जाती है, पर डोर नहीं, 
बताओं यह क्या है? 

उत्तर - चोटी 


50. आपस में ये मित्र बड़े हैं, 
चार पड़े है चार खड़े है। 
इच्छा हो तो उस पर बैठो, 
या फिर बड़े मजे से लेटो। 

उत्तर - खाट 


51. धक-धक मैं हूँ करती, 
फक-फक धुँआ फेंकती, 
बच्चे बूढ़े मुझ पर चढ़ते, 
निशानों पर मैं दौड़ती। 

उत्तर - रेलगाड़ी 

 

52. श्याम रंग की है, 
आंखों के ऊपर सजी है। 
क्या है यह जो भी बोले, 
मुंह से उसके जानवर की बोली निकले?

उत्तर - भौं (Eyebrow)

 

53. जब आप मुझे खरीदते हैं तो मैं काला होता हूं, जब आप मुझे देखते हैं तो लाल और जब आप मुझे बाहर फेंकते हैं तो ग्रे. मैं क्या हूँ?

उत्तर - चारकोल

 

54. तीन पैर की चम्पा रानी
रोज नहाने जाती।
दाल-भात का स्वाद न जाने,
कच्चा आटा खाती।।

उत्तर - चकला

 

55. कपडे उतरवाये पंखा चलवाये , कहती ठंडा पिने को
अभी – अभी तो नाहा के आया , फिर से कहती नहाने को

उत्तर – गर्मी

 

hindi paheliyan ad - 1

56. मध्य कटे तो बाण बने,
आदि कटे तो गीला,
तीनों अक्षर साथ रहें,
तो पक्षी बने रंगीला।

उत्तर - तीतर

 

57. ऐसा कौन सा वस्तु है,
जो है सोने के,
लेकिन सोने से भी सस्ता?

उत्तर - चारपाई


58. लंबा तन और बदन है गोल,
मीठे रहते मेरे बोल,
तन पे मेरे होते छेद,
भाषा का मैं करूँ ना भेद।
अब बताओ जवाब क्या है?

उत्तर - बाँसुरी

 

59. धन-दौलत से बड़ी है यह,
सब चीजों से ऊपर है यह
जो पाए पंडित बन जाए,
बिन पाए मूर्ख रह जाए।।

उत्तर - विद्या

 

60. लालटेन लेकर उड़ता अंधेरी रात,
जलती बिना तेल बाती के गर्मी, सर्दी, बरसात..
बताओ बताओ कौन हूँ मैं?

उत्तर - जुगनू

 

61. आँखे दो हो जाए चार, 
मेरे बिना कोट बेकार, 
घुसा आँखो में मेरा धागा, 
दरजी के घर से मैं भागा। ? 

उत्तर : बटन 

 

62. नहीं चाहिए इंजन मुझको, 
नहीं चाहिए खाना, 
मुझ पर चढ़कर आसपास का, 
कर लो सफर सुहाना। ?

उत्तर : साईकिल

 

63. गिन नहीं सकता कोई, 
है मुझसे ही रूप, 
दिमाग को ढके रखता सर्दी, 
बरसात व धुप। ? 

उत्तर : बाल 

 

64. यह हमको देती आराम, 
यह ऊँची तो ऊँचा नाम, 
बड़े-बड़े लोगों को देखा, 
इसके लिये होता संग्राम। 

उत्तर : कुर्सी (कुरसी) 

 

65. बिल्ली की पूँछ हाथ में, बिल्ली रहे इलाहाबाद में। 

उत्तर : पतंग 

 

66. जंगल में मायका, गाँव में ससुराल, गाँव आई दुल्हन उठ चला बवाल। 

उत्तर : झाड़ू 

 

67. ये धनुष है सबको भाता, मगर लड़ने के काम न आता। 

उत्तर : इन्द्र्धनुश

 

68. बताओ जरा, गोल है पर गेंद नहींं, 
पूंछ है पर पशु नहीं। 
बच्चे उसकी पूंछ को पकड़कर खलते-हंसते और हैं खिलखिलाते।

उत्तर : गुब्बारा

 

69.ऊंट की बैठक
हिरण सी तेज चाल
वो कौन सा जानवर
जिसके पूंछ न बाल

उत्तर : मेंढक

 

70. एक पैर है काली धोती
जाड़े में वह हरदम सोती
गर्मी में है छाया देती
सावन में वह हरदम रोती।

उत्तर : छतरी (Umbrella)

 

 

ऐसी और मजेदार पहेलियाँ के लिए हमारे Youtube Channel को जरूर देखिये - MindYourLogic Hindi Youtube Channel

 

 


paheli blogs

15-manoranjanak-paheliyan-apni-buddhi-ko-chunauti-dekar-rachnatmakta-ka-aanand-lein
Anshul Khandelwal 2023-06-08

15 मनोरंजक पहेलियाँ | अपनी बुद्धि को चुनौती देकर रचनात्मकता का आनंद लें

बुद्धि को मजबूत बनाएं और रचनात्मकता का आनंद लें इन 15 मनोहारी पहेलियों के माध्यम से। हल करें और अपनी...

20-mazedaar-hindi-paheliyan-chunaute-bhare-sawalon-ka-maza-lijiye
Anshul Khandelwal 2023-06-10

20 मजेदार हिंदी पहेलियाँ: चुनौती भरे सवालों का मजा लीजिए!

इस ब्लॉग पोस्ट में हम आपके लिए लेकर आए हैं 20 मजेदार हिंदी पहेलियाँ। इन पहेलियों को हल करके आप अपने ...

20-aasaan-hindi-paheliyanaur-uttar-hindi-paheliyan
Anshul Khandelwal 2023-06-14

20 आसान हिंदी पहेलियाँ और उत्तर || उत्तर के साथ 20 Hindi paheliya || हिंदी पहेलियाँ

यदि आप हिंदी में मजेदार पहेलियों के शौकीन हैं, तो इस ब्लॉग पोस्ट में आपके लिए हैं 20 आसान हिंदी पहेल...

25-riddles-in-punjabi-to-test-your-mind-img-1
Lipika Lajwani 2024-2-7

25+ Riddles In Punjabi To Test Your Mind | MindYourLogic Punjabi Riddles

Is post vich 25 riddles in Punjabi ditti gayi han te inke answers vi dite gaye han. Ethay kuch riddl...

20-chhoti-paheliyan-uttar-sahit-kya-aap-de-payenge-jawab
Anshul Khandelwal 2023-06-15

20 छोटी पहेलियाँ उत्तर सहित | Kya aap de payege jawab

इस ब्लॉग पोस्ट में आपको 20 छोटी पहेलियाँ उत्तर सहित मिलेंगी। इन पहेलियों को हल करके आप अपनी मनोदशक्त...